पाठ - 8 - आज यीशु स्वर्ग में क्या कर रहे हैं?

पाठ्यक्रम 1 - यीशु मसीह को जानना

Beginner 5(13 Ratings) 247 Students enrolled
Created by Jesus Calls Last updated Tue, 01-Dec-2020 Hindi
What will i learn?
  • स्वर्ग से यीशु हमारी प्रार्थनाओं का उत्तर कैसे दे रहा है, समझें?
  • भाई सैमूएल पॉल दिनाकरन के जीवन की घटना से जानें कि यीशु एक मां की तरह हमारी चिंता करता है
  • डॉ डी जी एस दिनाकरन के जीवन के अनुभव से समझें कि यीशु प्रार्थनाओं का उत्तर कैसे दे रहा है
  • यीशु बुलाता है प्रार्थना सेवकाई में स्वंसेवी के रूप में जुडने के तरीको को जानें

Curriculum for this course
9 Lessons 00:12:06 Hours
पाठ - 8 - आज यीशु स्वर्ग में क्या कर रहे हैं?
9 Lessons 00:12:06 Hours
  • Unit 1 - विषय वस्तु:
  • Unit 2 - Dr Paul Dhinakaran - Video Lecture 00:12:06
  • Unit 3 : पाठ 8 - आज यीशु स्वर्ग में क्या कर रहे हैं? – प्रतियोगिता 00:00:00
  • Unit 4 : पाठ 8 – विषय
  • Unit 5 : मनन वचन - अध्ययन विषय
  • स्वर्ग से यीशु हमारी प्रार्थनाओं का कैसे उत्तर देता है? 00:00:00
  • भाई सैमूएल पॉल दिनाकरन के जीवन की घटना का विवरण दें कि यीशु एक मां की तरह हमारी चिंता करता है 00:00:00
  • डॉ डी जी एस दिनाकरन के जीवन के अनुभव से यीशु हमारी प्रार्थनाओं का उत्तर कैसे दे रहा है, समझाएं 00:00:00
  • यीशु बुलाता है प्रार्थना सेवकाई में स्वंसेवी के रूप में जुडने के कौन कौन से तरीके हैं? 00:00:00
Requirements
+ View more
Description

विषय वस्तु: 

पाठ में प्रतिभागी होने के बाद यीशु बुलाता है के सहभागी समझेंगे कि: 

हमारी प्रार्थनाओं का उत्तर दे रहा है

* स्वर्ग से यीशु हमारी प्रार्थनाओं का उत्तर कैसे दे रहा है, समझें?

* भाई सैमूएल पॉल दिनाकरन के जीवन की घटना से जानें कि यीशु एक मां की तरह हमारी चिंता करता है

* डॉ डी जी एस दिनाकरन के जीवन के अनुभव से समझें कि यीशु प्रार्थनाओं का उत्तर कैसे दे रहा है

* यीशु बुलाता है प्रार्थना सेवकाई में स्वंसेवी के रूप में जुडने के तरीको को जानें

+ View more
Other lessons
00:13:12 Hours
Updated Tue, 29-Sep-2020
5 710
00:10:07 Hours
Updated Tue, 15-Sep-2020
5 704
00:13:12 Hours
Updated Tue, 15-Sep-2020
4 88
00:13:12 Hours
Updated Tue, 15-Sep-2020
5 284
00:13:15 Hours
Updated Tue, 15-Sep-2020
5 109
About the instructor
  • 776 Reviews
  • 1146 Students
  • 40 Courses
+ View more
#

#

Student feedback
5
Average rating
  • 0%
  • 0%
  • 0%
  • 15%
  • 84%
Reviews
  • Thu, 03-Dec-2020
  • Fri, 04-Dec-2020
  • Fri, 04-Dec-2020
  • Fri, 04-Dec-2020
    Gini Divakaran
  • Sat, 27-Feb-2021
    Amit Moses
    प्रभु परमेश्वर का धन्यवाद करता हूँ। इस अध्ययन के द्वारा प्रभु के और स्वर्ग की सच्चाई को और बेहतर समझ पाये हैं। Thank you JESUS CHRIST Amen
  • Tue, 08-Dec-2020
    Shweta Lakra
    धन्यवाद प्रिय प्रभु ! आपके अनमोल प्रेम के लिये आप भरपूर आशीषो के लिये,हमारे गुनाहो को माफ करने के लिये ,हमें अपने लहू से खरीदनें के लिये हमारे एक सहायक पवित्र आत्मा देने के लिये । हमारे लिये स्वर्ग के द्वार खोलने के लिये ,हमारी प्रार्थनाओं का जबाब देने के लिये । धन्यवाद प्रभु!
  • Sun, 13-Dec-2020
  • Tue, 15-Dec-2020
    Mable Manuel
    Best knowing jesus for haven
  • Thu, 31-Dec-2020
  • Sat, 02-Jan-2021
    Jenifer Jenifer
  • Sat, 09-Jan-2021
    हे प्रभु येसु मेरी प्राथना के जवाब देने के लिए मैं आपको धन्यवाद करती हूं। मेरे जीवनमें आपकी इच्छा और योजना पूरी हो येसु मशीह के नाम से आमीन।
  • Mon, 19-Apr-2021
  • Sat, 08-May-2021
    Mable Manuel
    -यीशु स्वर्ग में परमेश्वर से मनुष्य की मध्यस्थता कर रहे हैं ।वह हमारी प्रार्थना का उत्तर देने वाले परमेश्वर है। यहुन्ना 14: 13 -14 में जो कुछ तुम मेरे नाम से मांगोगे वही करूंगा कि पुत्र के द्वारा पिता की महिमा हो। " पतरस ने रात भर जाल डालने पर जब एक भी मछली नहीं पाई तब यीशु के कहने पर उसने एक नहीं दो नावे भरपूरी से भरी हुई प्राप्त की। परमेश्वर चाहते हैं उसके बच्चे भरपूरी का जीवन जिएं। जब पॉल बेटे सैमुअल छोटे थे उनकी मां उन्हें तीन इडली खिलाती थी जब वह दादी के पास जाते तो दादी उनका पेट दबा कर देखती और कहती अभी पेट भरा नहीं है वह और 3 इडलीया खिला देती। हमारे यीशु अपने बच्चों को एक मां की तरह तृप्त होते तक आशीष देना चाहते हैं। जब डॉक्टर दिनाकरण सेवकाई के दिनों में सताव से गुजर रहे थे , निराश थे । तब परमेश्वर के आत्मा ने उन्हें परमेश्वर के सिहासन पर लाया। सारा ब्रह्मांड दिखाकर कहा जब सारे नक्षत्र मेरे सामने झुकते और मैं उनका नियंत्रण करता हूं तो,तुम्हारा जीवन को क्या मैं नियंत्रित नहीं कर सकता? मत्ति 18:19-20 जहां दो या तीन मेरे नाम से इकट्ठा होते हैं मैं वहां उपस्थित होता हूं। आज भी यीशु पिता के दाहिनी ओर बैठे हैं। हम उनसे आत्मविश्वास के साथ प्रार्थना करें। टेलीफोन में प्रार्थना करें वो प्रार्थनाएं परमेश्वर के टेलीफोन से जुड़ जाएंगी प्रार्थनाएं आपके पास बत्तियो के रूप में पहुंचेंगी, जो परमेश्वर का उत्तर होगा।
Includes:
  • 00:12:06 Hours On demand videos
  • 9 Lessons
  • Full lifetime access
  • Access on mobile and tv